Tuesday, January 31, 2017

क्षणिकाएं

जीवन की सांझ
एक नयी सोच
एक नया दृष्टिकोण,
एक नया ठहराव
सागर की लहरों का,
एक प्रयास समझने का
जीवन को जीवन की नज़र से।
*****

होता है कभी आभास
किसी के साथ होने का
घर के सूनेपन में,
दिखाता है कितने खेल
यह सूनापन
बहलाने को एकाकी मन।
*****


ज़िंदगी
एक अधूरी नज़्म,
तलाश कुछ शब्दों की
जो छूट गए पीछे
किसी मोड़ पर।

...©कैलाश शर्मा 

20 comments:

  1. बेहद खूबसूरत

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 01 फरवरी 2017 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. जिंदगी जाने कितने ही रंगों और मोड़ों से गुजरती है, जिसे कोई नहीं जानता
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  4. बहुत ख़ूब है हर शब्द ... ज़िंदगी की हर नज़्म भी तो पूरी करनी है इन शब्दों में ...

    ReplyDelete
  5. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन सुरैया जी और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  6. बहुत ही अच्छा article है। ......... very nice ......... Thanks for sharing this article!! :)

    ReplyDelete
  7. सहीं कहाँ आपने एक उर्म के बाद मानव जीवन को हर उस कोण से समझने का प्रयास करता हैं। जो बह वहाँ नहीं कर पाया , जहाँ वो कल खड़ा था । बचपन में लोग हमें समझाते हैं। जवानी में हम उन चिजों का पऱिक्षण करते हैं। और बुड़ापें में बच्चों को समझाते हैं।
    सुन्दर शब्द रचना

    ReplyDelete
  8. ज़िदगी एक अधूरी नज़्म ------
    वाह ! बहुत सुंदर आदरणीय ! बहुत सुंदर।

    ReplyDelete
  9. होता है कभी आभास
    किसी के साथ होने का
    घर के सूनेपन में,
    दिखाता है कितने खेल
    यह सूनापन
    बहलाने को एकाकी मन।
    बढ़िया प्रस्तुति आदरणीय शर्मा जी !!

    ReplyDelete
  10. एकाकी मन अक्सर यादों की भीड़ से घिर ही जाता है ।
    भावसिक्त क्षणिकाएं ।

    ReplyDelete
  11. भावपूर्ण रचना..

    ReplyDelete
  12. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है .............. http://rakeshkirachanay.blogspot.in/2017/02/5.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  13. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  14. भावपूर्ण शब्द..
    बढ़िया.

    ReplyDelete
  15. जीवन की सांझ तक चलते -चलते काफी उतार-चढावों के
    अनुभव से जीवन के बारे में दृष्टिकोण अनुभवी एवं नया होना लाजमी है इसकी बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति की है आपने।
    वाह!!!बहुत सुन्दर........

    ReplyDelete
  16. हर क्षणिका कम से कम शब्दों में सघन भावों से भरी है. हृदयस्पर्शी क्षणिकाएं. बधाई!

    ReplyDelete